Welcome to Barwala Block (Hisar)

बेटे की कस्सी से काटकर हत्या:शराब पीने के दौरान पिता से हुआ झगड़ा, सोते हुए वार किए, शव छोड़कर भागा

          

लेडी टीचर ने छात्रा की आंख फोड़ी:गुस्से में कॉपी मारी तो खून बहने लगा; आंख धुलवाकर घर भेजा, कराहते हुए आपबीती सुनाई

          

अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टर धरने पर:प्रबंधन पर लगाए मनमानी वसूली के आरोप; खाने को लेकर भी उठाई आवाज

          

हिसार के खेतों से मिला 173 किलो गांजा:एक नशा तस्कर गिरफ्तार, ओडिशा से लाया गया; हांसी-नारनौंद में खपाया जाना था

          

सोना पहली बार ₹74 हजार के पार:चांदी ने ₹92,444 का ऑल टाइम हाई बनाया, एक ही दिन में 6 हजार रुपए बढ़ी कीमत

          

किसान बोले- सरकार से नहीं करेंगे बातचीत:पंजाब-हरियाणा के किसानों का फैसला, कल गवर्नर से मीटिंग; टिकैत बोले- मांगें नहीं मानी तो आंदोलन उग्र करेंगे

पंचकूला में किसानों के महापड़ाव के दूसरे दिन किसान नेता राकेश टिकैत पहुंचे। जहां उन्होंने किसानों के साथ आंदोलन को लेकर चर्चा की।  - Dainik Bhaskar
पंचकूला में किसानों के महापड़ाव के दूसरे दिन किसान नेता राकेश टिकैत पहुंचे। जहां उन्होंने किसानों के साथ आंदोलन को लेकर चर्चा की।

हरियाणा-पंजाब में किसानों का महापड़ाव दूसरे दिन भी जारी रहा। अपनी मांगों को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा के किसान नेताओं ने मोहाली में मीटिंग की। मीटिंग में तय किया गया कि वह सरकार से कोई वार्ता नहीं करेंगे। किसान नेताओं ने बताया कि कल यानी मंगलवार को उनकी पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित के साथ मीटिंग होगी।

वहीं, दूसरी तरफ पंचकूला में किसानों के महापड़ाव के दूसरे दिन किसान नेता राकेश टिकैत पहुंचे। जहां उन्होंने किसानों के साथ आंदोलन को लेकर चर्चा की। टिकैत ने कहा कि यदि सरकार किसानों की मांगों को गंभीरता से नहीं लेती है तो आंदोलन को और उग्र किया जाएगा।

पंचकूला में महापड़ाव के दूसरे दिन किसानों के साथ चर्चा करते राकेश टिकैत।
पंचकूला में महापड़ाव के दूसरे दिन किसानों के साथ चर्चा करते राकेश टिकैत।

15 किसान संगठन ले रहे भाग
पंचकूला में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसान-मजदूर महापड़ाव में लगभग 15 किसान संगठन भाग ले रहे हैं। इनमें से कुछ मुख्य संगठन हरियाणा किसान मंच, BKU टिकैत, जय किसान आंदोलन, अखिल भारतीय किसान सभा, गन्ना किसान संघर्ष समिति, भारतीय किसान संघर्ष समिति, अखिल भारतीय किसान महासभा, राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ, भारतीय किसान पंचायत, भारतीय किसान यूनियन आदि मिलकर महापड़ाव कर रहे हैं।

इन चार मांगों को लेकर प्रदर्शन
किसानों ने अपनी मांगों को पूरा कराने के लिए एकजुट होकर सरकार के साथ यह संघर्ष किया है। उनकी मुख्य मांगों में एमएसपी पर फसल खरीद की गारंटी, लखीमपुर खीरी हत्याकांड में शहीद हुए किसानों के लिए न्याय, पूर्ण कर्ज मुक्ति और प्राइवेट बिजली बिल रेड करो आदि 4 मांगें शामिल हैं। इन मांगों को लेकर किसान संगठनों ने आज से तीन दिनों के लिए धरना देने का निर्णय किया है।

वहीं, प्रशासन ने सुरक्षा बढ़ाई है ताकि धरना शांति और अनुशासन में ही बना रहे। इस महापड़ाव से सामाजिक और राजनीतिक दृष्टि से भी कई सवाल उठ रहे हैं, जिसका पूरा समर्थन करना हमारी जिम्मेदारी है

Spread the love