Welcome to Barwala Block (Hisar)

हिसार में आज से 3 दिन तक ‘खास’ मतदान:923 बुजुर्ग व दिव्यांग घर बैठे डाल सकेंगे वोट; 20 पोलिंग पार्टियां रवाना

          

पत्नी की हत्या:गांव में ही दूसरी शादी कर रह रही थी, पहले पति ने दिया वारदात को अंजाम

          

बालक चौपटा के पास चपेट में आने से बाइक सवार की मौत

          

राजली नहर में दोस्तों के साथ नहाने गया व्यक्ति डूबा

          

12वीं में आई कंपार्टमेंट, दोस्तों से झूठ बोला-थारा भाई पास हो गया, पूरी रात पी शराब, सुबह पीजी के शौचालय में मिला शव

          

हिसार के प्राइवेट स्कूल में हंगामा, ताला जड़ा:डीन ने नाबालिग छात्रों से राजस्थान टूर में छेड़छाड़ की, बिस्तर में घुसा, नशीली दवा पिलाई

हिसार के निजी स्कूल में बच्चों के अभिभावकों ने ताला जड़ दिया। हंगामे को देख बड़ी संख्या में पुलिस तैनात की गई। - Dainik Bhaskar
हिसार के निजी स्कूल में बच्चों के अभिभावकों ने ताला जड़ दिया। हंगामे को देख बड़ी संख्या में पुलिस तैनात की गई।

हरियाणा के हिसार में शुक्रवार को प्राइवेट स्कूल को स्टूडेंट्स के परिजनों ने ताला जड़ दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि इस स्कूल के डीन ने बच्चों को टूर के दौरान नशीली दवाई खिलाई। जब वे बेसुध हुए तो उनके साथ अश्लील हरकत की। जब स्टूडेंट घर लौटे तो परिजनों को इसके बारे में बताया। जिसके बाद गुस्साए परिजनों ने स्कूल पहुंच कर हंगामा किया और गेट पर ताला जड़ दिया। फिलहाल स्कूल प्रबंधन ने आरोपी डीन को निलंबित कर दिया है।

इस बीच राज्य महिला आयोग भी छात्रों से छेड़छाड़ की घटना पर सक्रिय हो गया है। आयोग की चेयरपर्सन रेणू भाटिया ने कहा कि छात्रों के साथ अश्लील हरकत मामले की पूरी जानकारी ली जा रही है। इसके बाद आगामी कदम उठाया जाएगा।

इससे पहले सुबह स्कूल में अभिभावकों के पहुंचने के बाद भारी पुलिस तैनात की गई थी। पुलिस ने हिसार में IPC की धारा 328, 34 व 506 और POSCO एक्ट की धारा 10 के तहत आरोपी डीन और स्कूल डायरेक्टर के खिलाफ जीरो FIR दर्ज की है।

हिसार की सिविल लाइन थाना प्रभारी निर्मला का कहना है कि परिजनों के बयान पर जीरो एफआईआर दर्ज कर ली गई है। मामला उदयपुर का है और FIR को वहां ट्रांसफर किया जाएगा। उदयपुर पुलिस ही आगामी कार्रवाई करेगी।

हिसार में निजी स्कूल के गेट पर ताला लगाते हुए बच्चों के अभिभावक। आरोप है कि स्कूल ने बच्चों से हुई ज्यादती पर कोई कार्रवाई नहीं की।
हिसार में निजी स्कूल के गेट पर ताला लगाते हुए बच्चों के अभिभावक। आरोप है कि स्कूल ने बच्चों से हुई ज्यादती पर कोई कार्रवाई नहीं की।

स्कूली छात्रों से छेड़खानी की पूरी कहानी..

शाम हुई तो बस में ही छेड़ने लगा
स्कूल का टूर 28 अक्टूबर को शाम 5 बजे राजस्थान के लिए रवाना हुआ। स्कूल के कुल 71 बच्चे पिकनिक में गए थे। साथ में 6 फीमेल और 4 मेल टीचर भी थे। उनके साथ आरोपी डीन भी गया था। शाम होते-होते उसने बस में ही बच्चों से छेड़छाड़ शुरू कर दी। नाबालिग बच्चों को गलत नीयत से छूने लगा।

रात को केबिन में गया, एक बच्चे को नीचे भेज दूसरे से छेड़छाड़ करने लगा
रात को करीब 10-11 बजे वह बच्चों के केबिन में चला गया। उस केबिन में 2 बच्चे थे। दोनों के साथ गलत नीयत से छेड़छाड़ करने लगा। फिर उसने एक बच्चे को नीचे भेज दिया। दूसरे बच्चे के साथ छेड़छाड़ करने लगा। डीन बच्चे की कमीज ऊपर कर छूने लगा। बच्चे ने विरोध किया तो धमकी दी कि अगर कुछ बोला तो तुम्हारा टूर कैंसिल कर दूंगा। तुम्हें यहीं उतार दूंगा।

बिस्तर में घुसा, बच्चों को बहाने से नशीली दवा पिलाई
29 अक्टूबर को उदयपुर के होटल में रुके। तब भी रात करीब 10-11 बजे वह बच्चों के कमरे में घुस गया। वह बच्चों के बिस्तर में घुसकर छेड़खानी करने लगा। तब बच्चों ने कहा कि हमारी तबीयत खराब है। हम थके हुए हैं। उसने 4 बच्चों को कोई नशीली दवा दे दी। जिससे कुछ बच्चे बेहोश हो गए।

बेहोश बच्चों संग बिस्तर में उल्टी-सीधी हरकतें करने लगा
जो बच्चे होश में थे, वह देख रहे थे कि आरोपी डीन बिस्तर में उनके साथ उल्टी-सीधी हरकत कर रहा था। उनके कपड़े उतारकर ऊपर तक हाथ फेर रहा था। नशीली दवा से 3 बच्चों की हालत खराब हो गई। इसके बाद सारा स्टाफ जाग गया। वह बच्चों को उठाकर देर रात 3 बजे (30 अक्टूबर) को अस्पताल ले गए। जहां पर उनका इलाज हुआ। आरोपी यह सब देखकर होटल से ही फरार हो गया।

हिसार में स्कूल में अभिभावकों के हंगामे को देखते हुए स्कूल को पुलिस छावनी में बदल दिया गया।
हिसार में स्कूल में अभिभावकों के हंगामे को देखते हुए स्कूल को पुलिस छावनी में बदल दिया गया।

स्कूल संचालक को फोन किया तो बोली- टूर जारी रखो
इसके बाद रात को ही 2.15 बजे स्कूल संचालक मैडम को फोन किया। उसने हमारी बात को कोई तरजीह नहीं दी। उसने कहा कि तुमने किसी को कुछ नहीं कहना। टूर को आगे जारी रखो। इस वजह से बच्चे बहुत डर गए। वह रोने-चिल्लाने लगे। इससे काफी बच्चे बीमार हो गए। इसकी जानकारी भी स्कूल संचालक को दी लेकिन उसने कहा कि सबको वहीं रोके रखो।

फिर इसी दिन (30 अक्टूबर) की सुबह 2 और बच्चे आगे आए। उन्होंने बताया कि सर (आरोपी डीन) ने हमारे साथ छेड़खानी की है। सुबह फिर संचालक मैडम से बात हुई। उन्होंने कहा कि टूर वापस आने पर मैं सबको मिलूंगी। उन्होंने कहा कि यह कोई बड़ी बात नहीं है। ऐसा होता रहता है।

स्कूल संचालक बोली- किसी को कुछ बताया तो निकाल दूंगी स्कूल डायरेक्टर ने कहा कि किसी टीचर ने किसी को कुछ बताया तो स्कूल से निकाल दूंगी। इसके बाद बच्चों और स्टाफ ने 2 दिन राजस्थान में निकाले। 1 नवंबर की शाम को टूर वापस स्कूल पहुंचा। वहां पर रोहतक के इसी स्कूल की वाइस प्रिंसिपल मौजूद थी। उन्होंने सभी टीचर और पेरेंट्स को कहा कि इस मामले को ज्यादा नहीं उछालना है। मैडम ने मेरे को बोला है कि जिन बच्चों के पेरेंट्स ज्यादा बोल रहे हैं, उन्हें कुछ पैसे देकर शांत करा देंगे।

विरोध करने वालों से इस्तीफे लिए, पति के BJP मंत्री होने की धमकी दी
अगर कोई आरोपी डीन के बारे में बोले तो कहना कि उनकी माता को कैंसर है। इस बात का स्टाफ के कुछ लोगों ने विरोध किया तो उनसे जबरदस्ती इस्तीफा लेकर उन्हें स्कूल से निकाल दिया। स्कूल डायरेक्टर से जब पेरेंट्स ने बात की तो उन्होंने कहा कि मेरे पति BJP में बड़े मंत्री हैं। तुम पर उलटा केस कर देंगे। बच्चे अब स्कूल जाने से डर रहे हैं।

स्कूल प्रबंधन बैकपुट पर, बैठाई जांच

नाबालिग बच्चों से छेड़छाड़ का पूरा मामला उजागर होने के बाद स्कूल प्रबंधन भी बैकपुट पर आ गया है। मीडिया के सामने आए ग्रुप डायरेक्टर सुभाष श्योराण ने बताया कि आरोपी डीन को तुरंत निलंबित कर दिया है। मामले की जांच की जा रही है। अगर इसमें कोई दूसरा भी दोषी मिलता है तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

हिसार में पत्रकारों से बातचीत करते हुए स्कूल के डायरेक्टर सुभाष श्योराण।
हिसार में पत्रकारों से बातचीत करते हुए स्कूल के डायरेक्टर सुभाष श्योराण।

सुभाष श्योराण ने कहा कि हमारे स्कूल के कुछ बच्चे टूर पर गए थे। शिकायत मिली है कि टीचर द्वारा कोई गलत हरकत बच्चों से की गई है। मामला हमारे संज्ञान में आते ही हमने आरोपी टीचर को निलंबित कर दिया है। हमने अभिभावकों की बात सुनते हुए पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई है। स्कूल की तरफ से एक जांच कमेटी बनाई गई है। कमेटी पीड़ित बच्चों से, साथ गए दूसरे बच्चों से, टीचर व अभिभावकों से बात कर पूरी जानकारी लेगी। इसमें कोई दूसरा भी दोषी होगा तो उस पर भी कार्रवाई होगी।

Spread the love