Welcome to Barwala Block (Hisar)

हाथरस कांड में साजिश का दावा: भोले बाबा के वकील बोले- सत्संग में कुछ लोग हाफ पैंट में आए, जहरीला स्प्रे छिड़कने से मची भगदड़

          

अभिषेक जिम्बाब्वे के खिलाफ टी-20 सेंचुरी बनाने वाले पहले भारतीय:भारत का हरारे में हाईएस्ट स्कोर, इस फॉर्मेट में 34वीं बार 200 पार किया; रिकार्ड्स

          

हरियाणा की भूतिया जगह: जहां आज भी रूहानी ताकतों का कब्जा, जानें यहां के खौफनाक राज

          

PM मोदी ने खिलाड़ियों को दिया विजयी भव: मंत्र, बोले- 2036 का ओलिंपिक भारत में कराने की कोशिश कर रहे

          

पानीपत में व्यक्ति ने जिंदगी से मानी हार: 45 दिनों तक किया खुद को शौचालय में बंद, करने लगा मौत का इंतजार

          

हरियाणा में जन्मदिन पर छात्र लापता:बैंक से 15 हजार रुपए निकाले; बैग में लेटर छोड़ा, लिखा- मैं न अच्छा बेटा बन पाया न भाई

हरियाणा के हिसार में बैंक में 3000 रुपए जमा करवाने गया शुभम लापता हो गया। वह राजगढ़ रोड स्थित शास्त्री नगर में रहता था। शुभम परिवार में इकलौता बेटा था। उसकी 2 छोटी बहनें हैं। शुक्रवार को ही शुभम का जन्मदिन था। जब वह देर तक घर नहीं लौटा तो माता-पिता ने उसकी तलाश शुरू की।

इसी दौरान माता-पिता ने शुभम के बैग की तलाशी ली, जिसमें से एक लेटर मिला। उसमें लिखा था “पापा, मैं न अच्छा बेटा बन पाया न भाई। 14 जून मेरा आखिरी दिन होगा”।

21 वर्षीय शुभम राजगढ़ रोड स्थित गवर्नमेंट कॉलेज में BSc का छात्र था। उसके पिता माली हैं और प्राइवेट नौकरी कर घर चलाते हैं। पिता ने शुभम की गुमशुदगी की रिपोर्ट आजाद नगर थाने में करवाई है।

                                                                                                             शुभम घर से बैंक में रुपए जमा करने निकला था।
                                                                                                                                               शुभम घर से बैंक में रुपए जमा करने निकला था।

शुभम ने क्या लिखा लेटर में
शुभम ने बैग में जो पत्र छोड़ा है, उसमें लिखा है “हेलो पापा, मैं आपको एक बात बताऊं? मुझे पिछले 15-20 दिन से कुछ भी अच्छा नहीं लग रहा। इन्हीं दिनों में मैने कई बाद सुसाइड का प्रयास किया। कभी हाथ की नस काटकर, कभी सांस रोककर तो कभी मोंटी की छत से कूदने की कोशिश की, लेकिन कुछ नहीं हुआ। फिर मैंने डिसाइड किया की 14 जून को मेरा इस धरती पर आखिरी दिन होगा।

                                                                                                     

इस घर में अगर आपको मेरे कपड़े और डॉक्यूमेंट गायब मिलें तो समझ जाना कि मैं घर छोड़कर जा चुका हूं। या मैं दुनिया छोड़कर चला गया हूं। इस जन्म में मैं न तो अच्छा बेटा बन पाया और न ही अच्छा भाई। उम्मीद है की अगले जन्म में आपका ही बेटा बनूंगा। पापा, मेरे जाने क बाद टेंशन मत लेना। उम्मीद है की आप मुझे जल्द ही भूल जाएंगे। आपका निकम्मा बेटा, शुभम…!

                                               
                                                                                                                                         शुभम द्वारा लिखा लेटर…

शुभम ने दूसरे कागज पर लिखे ATM के पासवर्ड
शुभम के पत्र के साथ एक और कागज मिला है, जिस पर बैंक ATM का पासवर्ड लिखा है। इस पत्र में लिखा “वेल पापा, मैंने 15 हजार रुपए अपने SBI वाले खाते से निकलवाए हैं, जिसे मैं सेटल होने पर आपको फोन-पे या गूगल-पे से वापस कर दूंगा।’ इस लेटर में शुभम ने ATM का पासवर्ड लिखा है। पासवर्ड को लेकर आगे लिखा, ‘पता नहीं यह सही है या गलत। आप इसे ज्योति की होली-डे होम वर्क वाली नोटबुक में चेक कर लेना। मैंने वहां भी पासवर्ड लिखे हुए हैं”।

                         

शुभम द्वारा लिखा गया एक और लेटर, जिसमें उसने ATM के पासवर्ड लिखे।
शुभम द्वारा लिखा गया एक और लेटर, जिसमें उसने ATM के पासवर्ड लिखे।
           

2 बहनों का इकलौता भाई है शुभम
शास्त्री नगर निवासी अयोध्या प्रसाद ने बताया कि उसके 3 बच्चे हैं। शुभम, लक्ष्मी और ज्योति। शुभम BSc द्वितीय वर्ष का छात्र है। शुभम बैंक में 3 हजार रुपए जमा करवाने गया था, लेकिन वह वापस नहीं आया। इसके बाद जब बैंक से 15 हजार रुपए निकलने का मैसेज आया तो हमें शक हुआ। इसके बाद हमने शुभम के सामान की तलाशी ली।

अयोध्या प्रसाद का कहना है कि शुभम पहले भी घर से भाग जाने और मरने की धमकियां देता रहा है।

           

Spread the love