Welcome to Barwala Block (Hisar)

हिसार में आज से 3 दिन तक ‘खास’ मतदान:923 बुजुर्ग व दिव्यांग घर बैठे डाल सकेंगे वोट; 20 पोलिंग पार्टियां रवाना

          

पत्नी की हत्या:गांव में ही दूसरी शादी कर रह रही थी, पहले पति ने दिया वारदात को अंजाम

          

बालक चौपटा के पास चपेट में आने से बाइक सवार की मौत

          

राजली नहर में दोस्तों के साथ नहाने गया व्यक्ति डूबा

          

12वीं में आई कंपार्टमेंट, दोस्तों से झूठ बोला-थारा भाई पास हो गया, पूरी रात पी शराब, सुबह पीजी के शौचालय में मिला शव

          

बरवाला में धमाके के साथ गिरी छत:बुजुर्ग महिला बाल-बाल बची, बेटा और बहू सो रहे थे अलग कमरे में; पड़ोसी पर लगा आरोप

छत गिरने के बाद पड़ा मलबा।
छत गिरने के बाद पड़ा मलबा।

बरवाला खंड के अंतर्गत आने वाले गांव बुगाना में बुधवार की दोपहर को एक मकान की छत अचानक से धराशाई हो गई। मकान की छत गिरते ही जोरदार धमाका हुआ।

जानकारी के अनुसार, गांव बुगाना निवासी बुजुर्ग महिला इंद्रो देवी घर के भीतर स्थित बैठक में सो रही थी। उसका बेटा राजेश कुमार और उसकी पत्नी भी अपने कमरे में आराम कर रहे थे। बुधवार की दोपहर करीब 12 बजे अचानक से मकान की छत तेज धमाके के साथ गिर गई। इस हादसे में परिजन बाल बाल बच गए।

बुजुर्ग महिला के बेटे राजेश कुमार ने बताया कि वह इलेक्ट्रिशियन का काम करता है। वह आज सुबह ही काम से वापस लौटा था। वह और उसकी पत्नी अपने कमरे में सो रहे थे। उन दोनों की आंख लगी ही थी कि तेज धमाके से नींच खुल गई।

बड़ा हादसा होते-होते टल गया

हादसे की सूचना के बाद डायल 112 की टीम मौके पर पहुंची। राजेश ने बताया कि उनके पड़ोसी ने अपने मकान में चिनाई का काम लगा रखा है। पड़ोसी सुबह पानी से तराई कर रहा था। बालू रेत नीचे से खिसकने से और पानी ज्यादा होने से मकान की छत का हिस्सा गिरा है। पीड़ित राजेश ने आरोप लगाया कि पड़ोसी की वजह से उन्हें नुकसान हुआ है।

इस दौरान परिवार सदस्य भी घर के अंदर सो रहे थे, जो बाल-बाल बच गए। गांव के लोगों का कहना है कि परिवार की आर्थिक हालत ठीक नहीं है। ऐसे में वह प्रशासन से आर्थिक सहायता देने की मांग करेंगे।

छत गिरने के बाद पड़ा मलबा।
छत गिरने के बाद पड़ा मलबा।
छत गिरने के बाद पड़ा मलबा।
छत गिरने के बाद पड़ा मलबा।
Spread the love