Welcome to Barwala Block (Hisar)

हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला: बिजली बिल में नहीं देना होगा MMC, राज्य के लाखों परिवारों को मिलेगी राहत

          

फादर्स डे पर पिता बना शैतान: टोहाना में बाप ने बेटे को पीट-पीटकर मार डाला,  पुलिस भी सकते में

          

कुर्बानी: पाकिस्तान में प्लास्टिक के दांतों वाला बकरा, क्या है इसके पीछे का रहस्य? जानिए

          

हरियाणा में जन्मदिन पर छात्र लापता:बैंक से 15 हजार रुपए निकाले; बैग में लेटर छोड़ा, लिखा- मैं न अच्छा बेटा बन पाया न भाई

          

हिसार में पब्लिक हेल्थ के XEN-SDO-JE को बनाया बंधक:पेयजल पाइन लाइन को लेकर भड़के ग्रामीण; अधिकारियों को 2 घंटे धूप में रखा

          

लेडी टीचर ने छात्रा की आंख फोड़ी:गुस्से में कॉपी मारी तो खून बहने लगा; आंख धुलवाकर घर भेजा, कराहते हुए आपबीती सुनाई

एक ट्यूशन टीचर ने 5 साल की छात्रा की जिंदगी में अंधेरा कर दिया। टीचर ने मासूम की आंख पर कॉपी मारी, जिससे उसकी आंख खराब हो गई। कॉपी लगने के बाद आंख से खून बहने लगा था। खून से आंख में इन्फेक्शन फैल गया। बाद में उसे दिखना बंद हो गया।

अस्पताल में भर्ती 5 साल की मासूम बच्ची प्रीति। - Dainik Bhaskar
अस्पताल में भर्ती 5 साल की मासूम बच्ची प्रीति।

एक माह से ज्यादा समय बच्ची के इलाज में लग गया। इसके बाद परिजनों ने इसकी शिकायत पुलिस को दी है। पुलिस ने शिकायत के आधार पर आरोपी टीचर के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

खून निकला तो वहीं धुलवा दिया मैडम ने
समालखा थाना पुलिस को दी शिकायत में रामदीन ने बताया कि वह गांधी कॉलोनी, समालखा का रहने वाले हैं। उनकी 5 साल की पोती प्रीति कॉलोनी के ही एक स्कूल में पढ़ती है। उसका इसी साल मार्च में ही एडमिशन करवाया है।

बताया कि स्कूल में परवीन नामक एक टीचर भी पढ़ाती है। स्कूल के बाद प्रीति उससे ट्यूशन भी लेती थी। प्रीति के अलावा उसकी 7 वर्षीय बड़ी बहन भी उसी टीचर के पास ट्यूशन पढ़ने जाती थी। 5 अप्रैल को दोनों बहनें ट्यूशन पढ़ने गई थीं। वहां टीचर प्रवीन ने गुस्से में प्रीति की आंख पर कॉपी मार दी।

कॉपी लगने से आंख से खून निकला
रामदीन का कहना है कि कॉपी लगने से प्रीति की आंख लहूलुहान हो गई। आंख से खून निकलते देखा तो टीचर ने आंख वहीं धुलवा दी, लेकिन बच्ची दर्द से कराह रही थी। जब वह घर आई तो उसने आपबीती बताई। आनन-फानन उसे अस्पताल ले गए। वहां डॉक्टर ने आंख में इन्फेक्शन बताया और आंख खराब होने की बात कही।

यह सुनकर बच्ची को रोहतक PGI ले गए, जहां कुछ दिन इलाज के दौरान आंख ठीक न होने की वजह से बच्ची को दिल्ली एम्स रेफर कर दिया गया। एम्स में भी डॉक्टर उसकी आंख नहीं बचा पाए।

मामले में अब तक कार्रवाई नहीं
इस बारे में जांच अधिकारी SI सुरेंद्र का कहना है कि मुकदमा 23 मई की देर रात दर्ज किया गया है। अभी इलेक्शन ड्यूटी पर चल रहे हैं। फिलहाल मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

Spread the love