Welcome to Barwala Block (Hisar)

हाथरस कांड में साजिश का दावा: भोले बाबा के वकील बोले- सत्संग में कुछ लोग हाफ पैंट में आए, जहरीला स्प्रे छिड़कने से मची भगदड़

          

अभिषेक जिम्बाब्वे के खिलाफ टी-20 सेंचुरी बनाने वाले पहले भारतीय:भारत का हरारे में हाईएस्ट स्कोर, इस फॉर्मेट में 34वीं बार 200 पार किया; रिकार्ड्स

          

हरियाणा की भूतिया जगह: जहां आज भी रूहानी ताकतों का कब्जा, जानें यहां के खौफनाक राज

          

PM मोदी ने खिलाड़ियों को दिया विजयी भव: मंत्र, बोले- 2036 का ओलिंपिक भारत में कराने की कोशिश कर रहे

          

पानीपत में व्यक्ति ने जिंदगी से मानी हार: 45 दिनों तक किया खुद को शौचालय में बंद, करने लगा मौत का इंतजार

          

कुर्बानी: पाकिस्तान में प्लास्टिक के दांतों वाला बकरा, क्या है इसके पीछे का रहस्य? जानिए

 

कुर्बानी: पाकिस्तान में प्लास्टिक के दांतों वाला बकरा, क्या है इसके पीछे का रहस्य? जानिए

Goats with Plastic Teeth: प्लास्टिक के दांतों वाला बकरा सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है। इसमें कुछ ग्राहक बकरे के मुंह से प्लास्टिक के दांत निकालते हुए नजर आ रहे हैं

पाकिस्तानी चैनल एआरवाई न्यूज ने इस घटना से जुड़ी खबर प्रकाशित की है। प्लास्टिक के दांतों वाला बकरा सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है। एक वीडियो में कुछ ग्राहक बकरे के मुंह से प्लास्टिक के दांत निकालते हुए नजर आ रहे हैं। इस वायरल वीडियो के आधार पर कारोबारी की गिरफ्तारी हुई है, जबकि पुलिस ने सबूत के तौर पर 7 अन्य बकरे-बकरियों को भी जब्त कर लिया।

पुलिस ने कहा है कि उन्हें वायरल वीडियो के जरिए कृत्रिम दांतों वाली बकरियों की बिक्री के बारे में जानकारी मिली थी, जिसके बाद उन्हें कार्रवाई करनी पड़ी। पूछताछ करने पर हिरासत में लिए गए कारोबारी ने बताया कि वह हैदराबाद का रहने वाला है और ईदुल अजहा (बकरीद) के लिए अपने जानवर बेचने के लिए कराची आया था। पुलिस ने मामले की आगे की जांच शुरू कर दी है।

7 जून को ज़िल हज का चांद दिखने के बाद पाकिस्तान 17 जून को ईदुल अज़हा मनाएगा। ईदुल अजहा, जिसे कुर्बानी के तौर पर भी मनाया जाता है, मुस्लिम वफादारों द्वारा पैगंबर इब्राहिम द्वारा अपने बेटे को अल्लाह के लिए कुर्बान करने की इच्छा की याद में मनाए जाने वाले दो ईद त्योहारों में से एक है। पारंपरिक तौर पर जानवरों को हलाल किया जाता है, जिसका मांस को परिवार के सदस्यों और गरीबों में बांटा जाता है। वह पैगंबर इब्राहिमी की परंपरा की याद में अपने बलि जानवरों का वध करते हैं, जो ईद के तीन दिनों तक जारी रहता है।                                                    

Spread the love