Welcome to Barwala Block (Hisar)

बेटे की कस्सी से काटकर हत्या:शराब पीने के दौरान पिता से हुआ झगड़ा, सोते हुए वार किए, शव छोड़कर भागा

          

लेडी टीचर ने छात्रा की आंख फोड़ी:गुस्से में कॉपी मारी तो खून बहने लगा; आंख धुलवाकर घर भेजा, कराहते हुए आपबीती सुनाई

          

अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टर धरने पर:प्रबंधन पर लगाए मनमानी वसूली के आरोप; खाने को लेकर भी उठाई आवाज

          

हिसार के खेतों से मिला 173 किलो गांजा:एक नशा तस्कर गिरफ्तार, ओडिशा से लाया गया; हांसी-नारनौंद में खपाया जाना था

          

सोना पहली बार ₹74 हजार के पार:चांदी ने ₹92,444 का ऑल टाइम हाई बनाया, एक ही दिन में 6 हजार रुपए बढ़ी कीमत

          

बरवाला :तीन बच्चों की शादी से कर्जदार प्लंबर ने 2 बेटों संग 28 गांवों से गेट चुराकर बेचे, तीनों गिरफ्तार

आदमपुर, अग्रोहा, बरवाला सहित सदर थाना के अंतर्गत करीब 24 सेअधिक गांवों में सरकारी एवंसार्वजनिक जगहों पर लगे स्टील और लोहे के गेट चुराने वाले गिरोह को एंटी व्हीकल थेफ्ट पुलिस टीमने पकड़ा है।चौंकाने वाली बात यह कि गिरोह में पिता व उसके 2 पुत्र शामिल हैं। इनकी पहचान मूलत: हनुमानगढ़,आदमपुर मंडी हाल नंगथला वासीबलजीत सिंह व इसके पुत्र राहुल व अरूण के रूप में हुई है।

आरोपियोंसे पूछताछ करने पर दिसंबर 2022से 22 दिसंबर 2023 तक 30वारदात का खुलासा हुआ है। इन्होंनेगेट चोरी के बाद कबाड़ियों को बेचेथे। ऐसे में माल बरामदगी केअलावा चोरीशुदा माल खरीदनेवाले कबाड़ी की धरपकड़ होगी। आरोपी बलजीत ने कबूला किआर्थिक स्थिति ठीक न होने से घरका गुजारा चलाना मुश्किल होनेलगा था।

इसलिए 2 बेटों संग गांवोंमें जाकर दिन में रैकी कर रात कोगेट चुराते थे। पूर्व में प्लंबर होनेका अनुभव था जिसके आैजारप्रयोग किए थे। अरूण नौवीं व राहुल छठी पास है। आरोपियों कोअदालत में पेश किया, जहां सेराहुल व बलजीत को 3 दिन केरिमांड पर लिया है। अरूण कोजेल भेज दिया है।

डीएसपी गौरव शर्मा ने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ में आरोपी बलजीतने कबूला कि उसकी 2 बेटियां वचार बेटे हैं। वह चार साल पहलेआदमपुर मंडी में प्लंबर का कामकरता था। दो लड़कियों व एक बेटेराहुल की शादी के लिए लोगों सेकर्जा लिया था। इसके कारण तीनसाल पहले मकान बेचकर परिवारसहित नंगथला में आकर रहने लगाथा।

घर खर्च चलाने के लिए डेढ़साल पहले पिकअप गाड़ी बेटेआकाश के नाम खरीदी थी। इसमें वह और अरूण फेरी लगाकर कबाड़का सामान खरीदते व बेचते थे। पर,आमदनी ज्यादा नहीं होने पर गाड़ी कीपहली किस्त नहीं चुका सके थे। ऐसेमें बेटे अरूण व राहुल के साथयोजना बनाई थी। गांवों में कबाड़खरीदने के लिए घूमते हैं।

इस दौरानगांव से बाहर सरकारी जगह पर लोहेव स्टील गेट लगे हैं। वहां रात कोसन्नाटा रहता है और कोई चौकीदार नहीं होता है। ऐसी जगहों की दिन मेंरैकी करके रात को गेट चुराकर उन्हेंकाटकर कबाड़ में बेच सकते हैं।नल-टूंटी ठीक करने के लिए औजार पहले से उपलब्ध थे, जिनका प्रयोगकर गेट चोरी कर काटकर बेचने शुरूकर दिए थे। शाहपुर के ग्राम सचिवालय से स्टील का गेट चोरीकिया था।

Spread the love