Welcome to Barwala Block (Hisar)

बेटे की कस्सी से काटकर हत्या:शराब पीने के दौरान पिता से हुआ झगड़ा, सोते हुए वार किए, शव छोड़कर भागा

          

लेडी टीचर ने छात्रा की आंख फोड़ी:गुस्से में कॉपी मारी तो खून बहने लगा; आंख धुलवाकर घर भेजा, कराहते हुए आपबीती सुनाई

          

अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टर धरने पर:प्रबंधन पर लगाए मनमानी वसूली के आरोप; खाने को लेकर भी उठाई आवाज

          

हिसार के खेतों से मिला 173 किलो गांजा:एक नशा तस्कर गिरफ्तार, ओडिशा से लाया गया; हांसी-नारनौंद में खपाया जाना था

          

सोना पहली बार ₹74 हजार के पार:चांदी ने ₹92,444 का ऑल टाइम हाई बनाया, एक ही दिन में 6 हजार रुपए बढ़ी कीमत

          

कुत्तों ने नोचा नीलगाय का बच्चा:ग्रामीणों ने बचाई जान, वाइल्डलाइफ विभाग की टीम ने इलाज के डियर पार्क

हिसार के बीड़ बबरान गांव में गुरुवार सुबह नीलगाय का एक बच्चा रास्ता भटककर विचरते हुए गांव की तरफ आ गया। इस दौरान गांव में कुत्तों ने उसे घेरकर बुरी तरह घायल कर दिया। ग्रामीणों को जैसे ही इसकी जानकारी मिली तो गांव के लोग मौके पर पहुंचे और नीलगाय के बच्चे को अपने घर ले गए। वहां प्राथमिक उपचार के बाद घटना की जानकारी वाइल्ड लाइफ विभाग को दी गई।

बीड़ बबरान गांव में पहुंची रेस्क्यू टीम।
बीड़ बबरान गांव में पहुंची रेस्क्यू टीम।

कुत्तों के हमले से टूटी टांग

गुरुवार सुबह लगभग 6 बजे नीलगाय के बच्चे को कुत्तों ने नोच डाला। इसकी वजह से उसकी पिछली एक टांग टूटकर अलग हो गई। बचने की कोशिश में नीलगाय का बच्चा एक घर में घुस गया। इसी दौरान गांव में रहने वाले दीपक वालिया और दूसरे लोगों ने उसे देखा और कुत्ते को भगाया। इसके बाद उन्होंने नीलगाय के बच्चे को रेस्क्यू किया।

गांववालों ने नीलगाय के बच्चे को प्राथमिक उपचार देकर पुलिस की डायल-112 और फॉरेस्ट डिपार्टमेंट की रेस्क्यू टीम को सूचना दी। इसी रेस्क्यू टीम ने पिछले दिनों ऋषि नगर से एक चीते को भी काबू किया था।

नीलगाय के बच्चे को गाड़ी में डालते रेस्क्यू टीम के मेंबर और ग्रामीण।
नीलगाय के बच्चे को गाड़ी में डालते रेस्क्यू टीम के मेंबर और ग्रामीण।

ग्रामीणों ने किया सहयोग

बीड़ बबरान गांव में रहने वाले दीपक वालिया, बंटी, जरनैल सिंह, रत्न खटक, रमेश खटक और बंटी समेत बाकी लोगों ने नीलगाय के बच्चे की मदद की। वाइल्डलाइफ विभाग के निरीक्षक दिनेश जांगड़ा ने बताया कि ग्रामीणों ने बेजुबान जानवर की जान बचाकर इंसानियत का काम किया है। रेस्क्यू किए गए बच्चे का आगे का इलाज डियर पार्क में किया जाएगा।

रेस्क्यू वाहन में चढ़ाया गया नीलगाय का बच्चा।
रेस्क्यू वाहन में चढ़ाया गया नीलगाय का बच्चा।
Spread the love