Welcome to Barwala Block (Hisar)

बेटे की कस्सी से काटकर हत्या:शराब पीने के दौरान पिता से हुआ झगड़ा, सोते हुए वार किए, शव छोड़कर भागा

          

लेडी टीचर ने छात्रा की आंख फोड़ी:गुस्से में कॉपी मारी तो खून बहने लगा; आंख धुलवाकर घर भेजा, कराहते हुए आपबीती सुनाई

          

अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टर धरने पर:प्रबंधन पर लगाए मनमानी वसूली के आरोप; खाने को लेकर भी उठाई आवाज

          

हिसार के खेतों से मिला 173 किलो गांजा:एक नशा तस्कर गिरफ्तार, ओडिशा से लाया गया; हांसी-नारनौंद में खपाया जाना था

          

सोना पहली बार ₹74 हजार के पार:चांदी ने ₹92,444 का ऑल टाइम हाई बनाया, एक ही दिन में 6 हजार रुपए बढ़ी कीमत

          

हरियाणा के इकलौते एयरपोर्ट पर जून-जुलाई से उड़ान संभव:जयपुर, जम्मू, अहमदाबाद के लिए फ्लाइट मिलेंगी

हिसार में हरियाणा का पहला इंटीग्रेटेड एयरपोर्ट बन रहा है। हरियाणा सरकार ने इसका नाम महाराजा अग्रसेन के नाम पर रखा। इस एयरपोर्ट पर रनवे, कैट आई, एटीसी, जीएससी एरिया, पीटीटी, लिंक टैक्सी, एप्रेन, फ्यूल रूम, बेसिक स्पिट पैरामीटर रोड और बरसाती ड्रोन बनाने का कार्य चल रहा है।

अब एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (AAI) ने एयरपोर्ट की टर्मिनल बिल्डिंग और ATC टावर बनाने का टेंडर हैदराबाद की वेन्सा इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड को अलॉट कर दिया है। इस टर्मिनल बिल्डिंग और टावर बनाने पर करीब 412.58 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। इसका काम करीब ढाई साल में पूरा होगा।

यह टर्मिनल शंख के आकार जैसा दिखाई देगा। स्वास्थ्य एवं नागरिक उड्डयन मंत्री डॉ. कमल गुप्ता ने भी जल्द से जल्द हिसार एयरपोर्ट से रिजनल फ्लाइट शुरू करने के प्रयास तेज कर दिए हैं। हिसार एयरपोर्ट पर रनवे से संबंधित काम पूरे होने के बाद जून-जुलाई में जयपुर, चंडीगढ़, अहमदाबाद और जम्मू जैसे शहरों के लिए फ्लाइट शुरू हो जाएगी।

टर्मिनल बिल्डिंग और ATC टावर (प्रतीकात्मक तस्वीर )
टर्मिनल बिल्डिंग और ATC टावर (प्रतीकात्मक तस्वीर )

पहले भी शुरू हुई फ्लाइट, हो गई थी बंद
हिसार एयरपोर्ट पर इससे पहले भी एयर टैक्सी की सेवा शुरू हो चुकी है, लेकिन नगर विमानन महानिदेशालय DGCA के नियम व शर्तें फ्लाइट उड़ाने में बाधा बनीं। पहले नियम था कि फ्लाइट उड़ाने के लिए 1500 मीटर यानी डेढ़ किलोमीटर की विजिबिलिटी होनी चाहिए।

मगर हिसार में ऐसा समय भी आया जब सर्दियों में एक सप्ताह तक घना कोहरा छाया रहा। इसके कारण फ्लाइट उड़ाने में बाधा उत्पन्न हुई। इसके बाद इन नियमों में एक बार फिर संशोधन हुआ और फ्लाइट उड़ाने के लिए 5000 मीटर यानी 5 किलोमीटर की विजिबिलिटी तय कर दी।

हिसार का महाराजा अग्रसेन हवाई अड्‌डा।
हिसार का महाराजा अग्रसेन हवाई अड्‌डा।

नाइट लैंडिंग के साथ उतरेंगे विमान
हिसार एयरपोर्ट पर नाइट लैंडिंग के लिए कैट आई लगाने का काम किया जा रहा है। इसमें GPS प्रणाली लगी होगी। इससे विमान कम्प्यूटर की मदद से अपने आप रनवे पर लैंडिंग कर सकेगा। वहीं, सरकार ने फ्लाइट उड़ाने के लिए DGCA से आवश्यक लाइसेंस भी प्राप्त कर लिया है।

विभाग का कहना है कि अब उनका पूरा फोकस हवाई अड्डा संचालन के लिए लाइसेंस प्राप्त करना है। इसके लिए विभाग ने हरियाणा सरकार के सिविल एविएशन डिपार्टमेंट ने अपनी तरफ से कार्रवाई शुरू कर दी है।

हिसार एयरपोर्ट पर फिलहाल फ्लाइट्स की आवाजाही बंद है।
हिसार एयरपोर्ट पर फिलहाल फ्लाइट्स की आवाजाही बंद है।

हिसार से दिल्ली के लिए कनेक्टिविटी तेज होगी
हिसार एयरपोर्ट को कामयाब बनाने के लिए सबसे जरूरी है कि दिल्ली का ट्रैफिक हिसार आए। इसके लिए दिल्ली से हिसार कनेक्टिविटी तेज करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इस कड़ी में हिसार एयरपोर्ट को नई दिल्ली के बीच रेल लाइन से जोड़ा जाएगा।

इसके लिए हरियाणा सरकार हिसार एयरपोर्ट और दिल्ली के इंदिरा गांधी हवाई अड्डे के बीच रेलवे लाइन के प्रस्ताव को मंजूरी दे चुकी है। हालांकि, यह कार्य 2 चरणों में पूरा होगा। पहले चरण में गढ़ी हरसरू-फरुखनगर-झज्जर के बीच रेल कनेक्टिविटी होगी। जबकि, दूसरे चरण में हिसार हवाई अड्डे को जोड़ा जाएगा। इसमें करीब 1200 करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च आएगा।

Spread the love